कम्प्यूटर

कम्प्यूटर का आविष्कार मानव की सबसे अद्भूत उपलब्धि थी। वैसे तो मानव द्वारा अनेक प्रकार के आविष्कार किए गए और हर आविष्कार अपने महत्व से जाना जाता है, अपितु कम्प्यूटर के आविष्कार ने पूरे विश्व की कायाकल्प ही कर दी।
आज के दौड़ती भागती जिंदगी में कम्प्यूटरर मानवीय जीवन का एक अभिन्न अंग बन चुका है। सुबह से लेकर रात तक हम अपने कार्यकलापों पर नजर डालें तो पाएंगे कि कम्प्यूटर के आगमन ने किस प्रकार हमारे जीवन को सुलभ, रोमांचकारी और आनंददायी बना दिया है। वैसे तो कम्प्यूटर का सर्वाधिक प्रयोग सरकारी व गैर-सरकारी संस्थानों में, कल-कारखानों में और मशीनों में होता है लेकिन साथ ही आज विद्यालयों कम्प्यूटर का ज्ञान अनिवार्य कर दिया गया है। चाहे हम बैंक में पैसे जमा करने या निकालने जाए, एटीएम जाएँ, मॉल में सामान खरीदने जाएँ हर जगह कम्प्युटर आसानी से दिख जाएंगे। समय के साथ कम्प्युटर ने अपना रूप भी बदला है। पहले एनालॉग, फिर डिजिटल और अब सुपर कम्प्यूटर ने बाज़ार कि रूप रेखा ही बादल दी है। इनके माध्यम ने नित्य नए खोज किए जा रहे हैं। अन्तरिक्ष में नए आयाम कायम किए जा रहे हैं। आंकड़ों का संग्रह और अपने संदेशों को विश्व के किसी भी कोने में बैठे अपने परिचित तक पहुंचाना अब चुटकी भर का काम हो गया है। अतः आज कम्प्यूटर के महत्व को हर कोई स्वीकार कर रहा है और खुद तो सीख रहा ही है अपने बच्चों और परिचितों को भी सीखने कि प्रेरणा दे रहा है।